Interesting And Unknown Facts About MARS ||| अद्भुत और अविश्वसनीय बाते मंगल ग्रह के बारे में।

Interesting And Unknown Facts About MARS ||| अद्भुत  और  

अविश्वसनीय   बाते  मंगल  ग्रह   के  बारे   में।


आओ  देखे  कुछ  अद्भुत  और   अविश्वसनीय   बाते  मंगल  ग्रह   के  बारे   में।

 
RED -PLANET


हम  सब  जानते  है  कि  वैज्ञानिक  सब  से  ज्यादा  जिस  ग्रह  के  बारे  में  जानते  है  वो  मंगल  ग्रह  है , 

चुकी , मंगल  ग्रह  है  ही  एक  रहस्यमय  ग्रह  क्यूकि  सब  को  लगता  है  की  MARS  पर  जीवन  

मुमकिन  है।  जो  वास्तव  में  भविष्य  में  संभव  हो  सकता   है।

हम  जानते  है  कि  मेथेन  ( CH4 )  गैस  एक  जैविक  पदार्थ  से उत्पन्न  होने  वाला  गैस   है ; जो  मानव  के  

स्थान  की वजह  तथा  मानव  की  गतिविधि  की वजह  से  उत्पन होता है  व  अस्तित्व  में  आता  है। 

मगर  आप  को  जान  कर  हैरानी  होगी  कि   मंगल  ग्रह  पर  भी   मेथेन  पाया   गया  है;

जिसके  बारे  में  वैज्ञानिक  कह  रहे  है  कि   शायद  इस   गृह  पर  पहले   जीवन  सम्भव   था 

और  कुछ  कारणों  की  वजह  से   इस  गृह  पर  से  मानव  जाति  का  विनाश  हो  गया। 

या , हो  सकता  है  कि  हम   मानव  जाति   जो  अभी  धरती  पर  रहते  है  वो  बहुत  साल  पहले  मंगल  ग्रह  

पर  रहते थे। और , कुछ  कारणों  जैसे  की  उल्का  पिंड  का  आक्रमण , भूस्खलन  व   ज्वालामुखी  के  

वजह  से   इस  ग्रह  पर  से  मानव  जाति  का विनाश हो गया  होगा। 
  
मेथेन  के  होने  का  और  भी  कारण  जैसे  मंगल  ग्रह  के  धरती   के  निचे   कुछ  प्रकार  के  रासायनिक  

प्रक्रिया  हो  रहा होगा ; जिसकी  वजह  से  ये  पाया  जाता  हो। खैर , कारण  कुछ  भी  हो  ये  सब  तथ्य  बस  

अंदाजा   है। 

चूकि , मंगल  ग्रह  अपने  सौरमंडल  में  सूर्य  से  चौथा  ग्रह  है ; पृथ्वी  से  मंगल  ग्रह  की  आभा  लाल  रंग  

के   प्रतीत  होता  है  और  इसी  वजह  से  इसे  लाल  ग्रह  भी  कहते  है।

BTW  इस  मंगल  ग्रह  के  जो  लाल रंग  प्रतीत  होते   है  वो  फेरिक आक्साइड की उपस्थिति की वजह से  

होते है। 

यह  ग्रह  मनुष्य  के  रहने  योग्य  नही  है  क्योंकि  यहाँ  का  औसत  तापमान -55 डिग्री सेल्सीयस होता है.

तथा, सर्दियो  के दौरान यहाँ का  तापमान -87 डिग्री सेल्सियस हो जाता  है और गर्मियों में -5 डिग्री सेल्सियस 

तक  हो  जाता  है।  सौरमंडल  के  ग्रह  दो  तरह  के  होते  है   स्थलीय  ग्रह  तथा  गैसीय  ग्रह   इसमें  से  

हमारा  ग्रह   यानी  पृथ्वी  स्थलीय  ग्रह  है; और  ठीक  इसी  प्रकार  मंगल  ग्रह  भी  एक  स्थलीय  ग्रह  है। 

और  इसी  वजह  से  माना  जाता है  कि  मंगल  ग्रह  पर  जीवन  सम्भव  हो  सकते  है। 

क्यूकि , इस  ग्रह   पर  पृथ्वी  की  तरह  ही  जवालामुखी ,बड़े -बड़े  पहाड़  जो  हमारे  mount -everest  से  

भी  ऊंचे  है ,घाटिया ,रेगिस्तान  तथा  वीरान  जगह है। 


वैसे  आप  को  जान  कर  हैरानी  होगी  कि  सौरमंडल  का  सबसे  उच्च  पर्वत  OLYMPUS - MONS 

 मंगल  ग्रह   पर  ही  स्थित  है। साथ ही ,  विशालतम  घाटी  यही  पर  स्थित  है  जिसका  नाम   VALLES

MARINERIS  चूकि , मंगल  ग्रह  के  घूर्णन  काल   तथा  मौसमी  चक्र   अपने  पृथ्वी  के  सामान   है  इसी

वजह  से वैज्ञानिको  को  लगता  है  कि   इस  पर  जीवन  संभव  हो  सकता  है। 

जैसा  कि  वैज्ञानिको  का  कहना  है  प्राचीन  काल  में  इस  गृह  पर  मानव - जाति  थी , पर  कुछ  वजह  से  

सब  विलुप्त  हो  गए।  क्योकि , मंगल  ग्रह  के  दक्षिण  ध्रुव  तथा  उत्तरी  ध्रुव  पर  DRI -ICE  ( शुष्क  

बर्फ)   जो   उच्च  दाब  तथा  उच्च  ताप  पर  पानी  में  बदल  सकता  है। 

लेकिन , मंगल  ग्रह  के  वातावरण  सरल  है   जिसमे  ना  तो   उच्च  दाब  तथा  उच्च  ताप  जिसकी  वजह  

से  वो  द्रव  में  बदल  सकता है। 
   
   

     
#  MANGAL GRAH PAR PAR PAAYE JAANE WALA Elements .

मंगल  ग्रह  एक  स्थलीय   ग्रह  है  जो  सिलिकॉन  और ऑक्सीजन  युक्त  खनिजों  ,धातुओं  और  भी  अन्य 

तत्वों  को  शामिल  करता है  जो  मुख्य  रूप  से  ऊपरी  चटान  बनाते  है। 

मंगल  ग्रह  की  ज्यादा  भाग  व  सतह  मुख्यत:  थोलेईटिक  बेसाल्ट  से बनी  है ;सिलिकॉन और                      
ऑक्सीजन के अलावा, मंगल की पर्पटी में बहुतायत में पाए जाने वाले तत्व  लोहा, मैग्नेशियम, एल्युमिनियम,

कैल्सियम और पोटेशियम हैचूकि , मंगल को पृथ्वी से नंगी आँखों से देखा जा सकता है। 

  
 #  कुछ  रोचक बाते !!!

   1.  यूनान के लोग मंगल को युद्ध का देवता मानते हैं। 

   2.  मंगल ग्रह को पृथ्वी से नंगे  आँखों से भी देखा जा सकता है.

   3 .  मंगल का वायुमंडल 95% कार्बन डाइऑक्साइड, 3% नाइट्रोजन, 1.6% आर्गन से बना हैं और 

             ऑक्सीजन और पानी के निशान शामिल हैं। 

   4 .  मंगल  ग्रह  पर  कई  बार  हलके  वायुमंडल की  वजह  से  धूल  भरे  तूफान  आते  रहते  है , जो 

             मंगल  ग्रह  को  भी   देख  देते  है। 

   5 . मंगल पर एक दिन 24 घंटे 37 मिनट का होता है जो  पृथ्वी  के  लगभग  बराबर  ही है  जिसे  सोलर 

             डे कहा जाता है। 

   6 . धरती की तरह मंगल में भी साल में चार मौसम आते हैं- पतझड़, ग्रीष्म, शरद और शीत. धरती की 

             तुलना में मंगल में हर मौसम लगभग दोगुना वक्त तक रहता है। 

   7 . यह  ग्रह  पृथ्वी  की  तुलना  में  सूर्य  से  1.52  गुना  अधिक  दूर  है, परिणामस्वरूप  मात्र  43%  सूर्य 

              प्रकाश  की  मात्रा  ही  मंगल  पर  पहुँच  पाती  है।

    8.  मंगल  सूरज  से  14.2  करोड़  मील  की  दूरी  पर  है. धरती  की  तुलना  में  मंगल  ग्रह  लगभग 

              इसका  आधा  है. मंगल  का  व्यास  4,220  मील  है. लेकिन  वजन  की  बात  की  जाए  को  मंगल 

              धरती  के  दसवें  हिस्से  के  बराबर  है। 

    9.  मंगल  सूरज  का  पूरा  चक्कर  687  दिनों  में  लगाता  है. इस  आधार  पर  धरती  की  तुलना  में  

              मंगल  सूरज  का  चक्कर  लगाने  में  दोगुना  वक़्त  लेता  है  और  यहां  एक  साल  687  दिनों  का  

              होता  है। 

    10. धरती  और  मंगल  पर  गुरुत्वाकर्षण  शक्ति  अलग  होने  के  कारण  धरती  पर  100  पाउंड  वज़न  

               वाला  व्यक्ति  मंगल  पर  38  पाउंड  वज़न  का  होगा। 


               
इसके  अतरिक्त  और  भी  बहुत  तथ्य  बाकी  है ;  पर  मुझे  लगता  है  मैं  ज्यादा  ही  लिख  दिया  

है!!!    



 #  MANGAL GRAH  KE  CHAAND

          1.  फ़ोबोस 

          2. डेमोस



             
खैर , ये  दो  चाँद   बहुत  मह्त्वपूर्ण  है  जिसके  बारे  में  मैं  अगले  blog  में  लिखूंगा; तो  इसी  के  साथ  मैं   Ainesh Kumar   आप  से  विदा   लेता  हूँ  , मैंने  अपना  काम  कर  दिया  अब  आप  की  बारी  इसे  पढ़े  और SHARE  करे !!!       

          
आपका   धन्यवाद !!!

   
Posted By Ainesh Kumar
   

      

Previous
Next Post »

मैं आप सबका शुक्रिया अदा करता हूँ की आप ने मेरे आर्टिकल को पढ़ा और इतना सारा प्यार दिया . अब अगर आप को कोई Confusion है, तो आप कमेन्ट में पूछ सकते है .धन्यवाद . ConversionConversion EmoticonEmoticon