NEP 2020 NEWS : New National Education Policy 2020 : नई शिक्षा नीति-2020 Kya Hai- Iss Se Humara Furure Kaise Secure Hai- Information In Hindi

NEP 2020 NEWS: New National Education Policy 2020: नई शिक्षा नीति-2020 Kya Hai- Iss Se Humara Future Kaise Secure Hai- How does New Education Policy affect you? Information In Hindi

new-education-policy-2020,new-education-policy-kya-hai
new-education-policy-2020


आज हमारे देश में एक नई शिक्षा निति आ गयी  है; यह शिक्षा निति हमारे देश को किस तरीके से परिवर्तित करेगी, इसका हमारे ऊपर ( Students ) आज तक चली आ रही शिक्षा निति से किस तरीके से भिन्य प्रभाव पड़ेगा। कहते है की किसी भी देश का तक़दीर उस देश में चल रही शिक्षा निति पर निर्भर करती है। आज जो NEP 2020  ( New Education Policy ) आयी है वो हमारी भावी पीढ़ी को किस तरीके से Benefits दिला सकती है साथ ही किस तरीके से और कब हमारे देश में यह निति लागू होगी। हम इस ब्लॉग में आगे विस्तार से जानेगे। 

भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने यह नयी शिक्षा निति की घोषणा की है, जो सभी राज्य के मंत्री व बड़े - बड़े नेता द्वारा इस निति पर बात हुई उसके बाद यह निति आयी है। माना यह भी जाता है की अब की सबसे ज्यादा कमेटी वाला यह निति है यानी इंडिया के कोई ऐसा पंचायत या कोई ऐसा जिला नहीं है जहा से सलाह न लिया गया हो। 

बहुत सारे सलाह और सुझाव के कारण ही आज 34 वर्ष के बाद बहुत बड़ा बदलाव हमारे देश की शिक्षा निति में देखने को मिलेगी। दोस्तों अब आईये हम देखते है की कब से, कैसे और किस तरह से नई शिक्षा निति को अप्लाई किया जायेगा। 

New Education System 2020

दोस्तों नयी शिक्षा लागू तो होने है लेकिन इस कोरोना और Lockdown  की वजह से अभी और हाल के लिए सथगित किया जा रहा है। और, मैं कहु तो इस निति को  लागू किया जाएगा 2021 से 2022 के बिच में क्योकि  Lockdown है अभी भी हमारे देश में और जिस तरीके से कोरोना फैल रही है। उसी के चलते इस निति को लाया गया है लेकिन अभी लागू नहीं किया जायेगा क्योकि स्कूल और कॉलेजेस बंद है।  

10+2 से 5+3+3+4 क्या है?

लोगो का कहना है की इस प्रक्रिया में 10 + 2 सिस्टम को हटा कर 5+3+3+4 कर दिया गया है जिसमे Completely और ज्यादातर विदेशों में चल रहे शिक्षा निति के सामान समझा जा सकता है। 

10 + 2 वाले सिस्टम में यह होता था की बच्चे का Education 6 साल से होता था यानी Basic Classes 6 साल से होती थी लेकिन इस 5+3+3+4 वाले सिस्टम में बच्चो का Basic शुरू हो जायेगा 3 साल से ही यानी आप बच्चो पर 3 साल से ही सरकार नजर रखेंगी। नई शिक्षा निति के अनुसार पहले 5 वर्ष की पढ़ाई फाउंडेशन स्टेज में होगी जिसमे नए Students के लिए Basic व मजबूत नींव तैयार की जायेगी। आयु 3 -6 तक के बच्चों के लिए Preschool  होगा और उसके बाद 2 साल के लिए क्लास -1 और क्लास-2 होगी। इस 5 से 6 साल तक बच्चे खेल-कूद के साथ अपना पढ़ाई भी करते रहेंगे यानी अब पहले से कम भार होगा बस्ता का पर उसे (Students ) भविष्य  तैयार भी किया जाएगा और इसी स्टेज में बच्चे सामजिक,राजनितिक, विज्ञान और गणित जैसे विषय को भी Practically  समझाया जायेगा। कक्षा 6 से 8 तक के Students को Middle Stage में रखा जायेगा जिसमे बच्चों को Experiential Learning व निश्चित पाठ्यक्रम पर पढ़ाया जाएगा। Last Stage 9 से 12 तक में 4 साल तक पढ़ाया जाएगा और इसमें Students को उसके Skill, Talent और Multi Disciplinary Learning के तरफ गहरी शिक्षा दी जायेगी। 

अब नहीं रही Stream का झंझट Science, Commerce And Humanities  

दोस्तों अब तक के सिस्टम में चले आ रहे थे Stream Wise System जिसमे आप को 10 में Board देने  के बाद  Stream Choose करने होते थे यानी की आप भविष्य में किस चीज़ को पढ़ने में ज्यादा Interested है Science, Commerce या फिर Arts और अगर आप एक बार Stream Choose कर लेते थे तब आप को वही पढ़ने होते थे जो Syllabus आप की Stream में है मतलब यह है की 10 से पहले आप को History भी पसंद थी और Science भी पर आप को 11th में इसमें से कोई एक को ही चुनना होता था  लेकिन अब इस नई निति के अनुसार यह सब सिस्टम बर्खास्त किया जायेगा। और एक Flexible Subjects Option लाया जायेगा मतलब  है की Physics पढ़ने वाला Student अब History भी पढ़ सकता है; केमिस्ट्री पढ़ने वाला स्टूडेंट अब Political Science भी पढ़ सकता है। मतलब अब आएगी पढ़ाई में मौज जो जी चाहे वो पढ़ो। 

अब न कोई Science का Student होगा नहीं Commerce का और ना ही Humanities का जो मन में है बस आप वो पढ़ सकते है लेकिन इसमें भी कोई Guidelines जरूर होगी वो तो बाद में पता चलेगा। 

क्या कहती है नए नियम Languages Par... 
अब आप को English को Subject के Perspective से ही पढ़ाया जाएगा। दोस्तों पुराने नियम अनुसार ये था की आप को इंग्लिश को ज्यादा Priority देना होता था  और हमारी मात्र भाषा व जन्म भूमि भाषा को कम लेकिन आप  पता है की नए नियम के मुताबिक 5 क्लास तक बच्चे अब अपने मात्र भाषा में पढ़ाई करेगा और जब वो 6 Class में जाएगा तब उसको हिंदी और इंग्लिश दोनों  किसी  साथ पढ़ सकते है लेकिन 5 तक यह Confirmed है की बच्चे अपने मात्र भाषा में ही शिक्षा प्राप्त करेगा। 

दोस्तों इस नियम में Colleges और Schools स्तर पर  संस्कृत की भी भाषा को लागू किया जाएगा साथ ही IIT जैसे बड़े - बड़े  इंजीनियरिंग Colleges में भी इस भाषा को Priority दिया जायेगे। 

व्वहारिक ज्ञान और Semester System पर ज़ोर 

अब इस नए नियम में बच्चे जब 6th क्लास में जायेगा तब उसे Computer Coding की भी शिक्षा दी जायेगी साथ ही बच्चे Internship के लिए भी जा सकता है। यानी की अब चीन व जापान जैसे देश की तरह अब भारत बच्चे भी छोटे उम्र से ही टेक्नोलॉजी को समझने लगेगा। अब आप मान लीजिये की आप का Interest है Drawing में या Software को जान्ने में है तब आप स्कूल  साथ-साथ कर सकते है बिना कोई नुक्सान के। 

Semester Wise System : कक्षा 9 से 12 तक के बच्चों का  साल में दो बार Exam होगा। इसमें आप को हर 6 महीने में एक एग्जाम देना होगा और लास्ट में यानी साल के अंत में आपको पूरा Curriculum और Activity को देख कर नंबर दिया जायेगा और अब आप ने जो Extra Curriculum में भाग लेंगे उसके भी नंबर आपके रिपोर्ट कार्ड में जोड़ा जाएगा। 

Report Card As 360° Assessment 
दोस्तों पहले क्या होता था की जितना आप एग्जाम में लिख कर आयेगे उसके अनुसार ही Teachers आपको नंबर दे सकते थे यानी आप कितना ज्यादा रत सकते है भले ही आप बाद में भूल जाओ पर आपको Exam में लिखना ही होता था उसी के संधर्व में Teachers नंबर देते थे। वैसे, टीचर्स जो हमे Marks देते थे उस पर हमारा ज़ोर तो नहीं होता था, लेकिन नई नियम  अनुसार आप अपने आप को Marks देंगे की आखिर आपने पुरे साल किस-किस Activities और Extra Curriculum में Participate किये है, इत्यादि। 

www.gyanvigyanfacts.com,नई शिक्षा नीति-2020
नई शिक्षा नीति-2020


After 12 Class: College Level पर बदलाव 

हमने अभी तक देखा वो सब Schools स्तर के Changes थे लेकिन अब हम जानेंगे Colleges Level के बदलाव को और ये भी देखेंगे किस प्रकार उन Students का फ़ायदा हो सकता है जो अभी कॉलेज में आये है या Admission लेने वाला है। 
CAT ( Common Aptitude Test ) की सुभीधा मतलब यह है की मान लीजिये आप 12th में पास तो हो गए लेकिन आप ने उतने अंक प्राप्त नहीं किये जिससे की आप अपने मनपसंद कॉलेज में एडमिशन ले सके तो आप अब इस नए नियम के मुताबिक उस कॉलेज के According Cut Off  ला कर उस कॉलेज में Entry कर सकते है।

Multiple Entry-Exit Programme  ( Credit Transfer System )

इस Multiple प्रोग्राम में आप कई स्तर पर कॉलेज डिग्री ले सकते है जैसे की आप मान लीजिये की आप B. Tech करना चाहते है जिस कोर्स का Duration 4 वर्ष का है, लेकिन आप साल ख़त्म होते ही उस कोर्स से Bored  हो रहे है तब आप जा सकते है और आप जिस भी  कॉलेज को Select करना चाहते है वो आप आसानी से कर सकते है।क्योकि, आप जो पहले साल में जो भी Credits पाए है वो दूसरे डिग्री में ट्रांफर कर सकते है और वहाँ  Continue कर सकते है उससे आपके Graduation पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।  
दरसअल, इस नियम के अनुसार आप ने जो एक साल कोर्स किया है उसको Certificate कोर्स कहा जायेगा यानी आप B.Tech करने गए लेकिन कुछ कारन से पहले ही  Drop ले लिए है तो आप एक Certificate पायेंगे,अगर आप 2nd Year Drop करते है तब आपको Diploma  डिग्री मिलती है और अगर आप 3rd Year में Drop Out करते है तब आप Bachelor डिग्री पाते है और अगर आप पुरे 4 साल कोर्स करते है तब आपको Bachelor's Research Degree मिलेंगे। 

Focus On Vocational Education 

इंडिया जैसे विवधता वाले देश में छोटे स्तर पर काम करने वाले को Illiterate समझा जाता है वही पर विकासशील देश उसे वही दर्जा देते है जो एक प्रोफेशनल स्तर पर काम करने को दिया जाता है। इस नयी शिक्षा निति में Vocational Education पर भी ज़ोर दिया जाएगा यानी अब Students को कारपेंटर, Mechanic और भी कई सारे स्तर के काम को समझने का मौका मिलेगा। 

6 % ऑफ़ GDP Goes For Education 
दोस्तों अब नई शिक्षा निति के अनुसार हमारे Education System को समय-समय पर अच्छा बनाने के लिए सरकार 6 % जीडीपी लगाएगी Education Field में अभी जो फिलहाल चल रहा है जो Rating वो 3% से 4% के बिच में है। 
Developed Countries अपने शिक्षा के स्तर को हर वक्त सुधारते रहते है अब इंडिया भी इसी राह पर निकल चूका है की " जब पढ़ेगा इंडिया तभी तो बढ़ेगा इंडिया "

कब से लागू होगी NEP System 

अब आप इसके सभी पहलू को जान्ने के बाद आप सोच रहे होंगे की आखिर इस नियम को कब से Implement किया जाएगा तो आईये हम जानते है। दोस्तों मैं आप को बता दूँ की इसको लागू करने के लिए एक बिल तैयार किया जाएगा जिसका नाम National Higher Education Bill इसी के तहत इसको पुरे देश में लागू किया जायेगा। इस बिल को कैबिनेट के द्वारा मंजूरी मिल चुकी है अब संसद के द्वारा मंजूरी देना बाकी है और जब एक बार संसद से मंजूरी मिल जायेगी तब यह कानून बन जायेगा जिसको राज्य सरकार अपने मुताबिक राज्य में भी लागू करेगा। इस नियम को लागू करते ही Indian Ministry Of Human Resource Development का नाम बदल कर Ministry Of Education रख दिया गया है। 

विशषज्ञों का मानना है की जब इस Lockdown के अंतिम चरण या फिर जब हमारा Next अकेडमिक Section चालू होगा तब इसे नए नियम और कुछ Guidelines के अंदर में राज्यों में लागू किया जायेगा मतलब अकेडेमिक Session 2021 से 2022 तक की शुरुआती सालो में इसे राज्यों में लागू  कर दिया जाएगा। 


तो दोस्तों ये थे आज के हमारा टॉपिक की नई शिक्षा निति क्या है, इससे कैसे Students को फायदा हो सकता है और कब से इसे लागू किया जाएगा, इत्यादि। तो दोस्तों मैं आशा करता  सब को इस ब्लॉग की मदद से समझ में आ गया होगा New Education Policy के बारे में। अगर आप सब को इसे पढ़ने मजा आया है तो प्लीज इसे अपने Relatives और Dosto में Share करे। 

और हाँ आप क्या सोचते है इस नए नियम के बारे में Please निचे Comment में बताना तो इसी के साथ अब मैं आप सब से विदा लेता हूँ, आप सब का धन्यवाद। 

Ainesh Kumar 
Previous
Next Post »

मैं आप सबका शुक्रिया अदा करता हूँ की आप ने मेरे आर्टिकल को पढ़ा और इतना सारा प्यार दिया . अब अगर आप को कोई Confusion है, तो आप कमेन्ट में पूछ सकते है .धन्यवाद . ConversionConversion EmoticonEmoticon