Sundar Pichai Google's CEO: सुन्दर पिचाई का Google तक का सफर | Sundar Pichai Biography In Hindi

 Sundar Pichai Google's CEO: सुन्दर पिचाई का Google तक का सफर | Sundar Pichai Biography In Hindi

sundar-pichai-biography-in-hindi
Google's_CEO_Sundar_Pichai_Biography 



नमस्कार दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में हम जानने वाले है एक महान हस्ती के बारे में आपने तो जान लिया है की मैं किस हस्ती के बारे में बात कर रहा हूँ तो जी हाँ आज हम सुन्दर पिचाई के बारे में जान्ने वाले है। हम सुन्दर पिचाई के जीवन कथा अर्थात जीवनी देखेंगे की कैसे तमिलनाडू के एक साधारण से परिवार से उठकर आज सुन्दर पिचाई Google के CEO ( Chief Executive Officer ) बने किस-किस प्रस्तिथियो का सामना उन्हें करना पड़ा। 

तो अब हम आगे बढ़ते है और जानते है { #Sundar Pichai Google's CEO: सुन्दर पिचाई का Google तक का सफर | Sundar Pichai Biography In Hindi } आप बस मेरे साथ अंत तक बने रहे। 



सुन्दर पिचाई का Google तक का सफर | Sundar Pichai Biography In Hindi


सुन्दर पिचाई का प्राम्भिक नाम है सुंदरराजन पिचाई है। उनके पिता का नाम रघुनाथ पिचाई और माता का नाम लक्ष्मी है।आज सुन्दर पिचाई Google के मुख कार्यकारी अधिकारी ( CEO ) है। एक वक्त था जब वह सीनियर वाइस प्रेसीडेंट थे गूगल के। सुन्दर पिचाई ने IIT खड़गपुर से B.Tech की बैचलर Degree हासिल की है,भारत में जन्मे सुन्दराजन पिचाई ने सन 2004 में दुनिया की सबसे बड़ी सर्च कंपनी गूगल ज्वाइन किया और अपनी कड़ी मेहनत और योग्यता के बल पर कंपनी के सबसे बड़े पद ( CEO ) के लिए चुने गए।

सुन्दर पिचाई IIT खड़गपुर से B.Tech करते समय अपने Batch में एक रजत पदक ( सिल्वर मेडल ) हासिल किया था।अमेरिका में सुंदर ने MS ( 1995 ) की पढ़ाई Stanford University से की और Wharton School से MBA ( 2002 )किया।क्या आप जानते है की पिचाई को University of Pennsylvania में Siebel Scholar और Palmer Scholar के नाम से जाना जाता था।सुन्दर पिचाई को 10 अगस्त 2015 को गूगल का अगला CEO (मुख कार्यकारी अधिकारी) चुना गया था।आज हमे भले ही उनके ऊपर Proud हो रहा हो लेकिन उनके जीवन भी एक समय पर तंगमय था सुन्दर पिचाई मद्रास में बड़े होने वाले एक लड़के के रूप में अपने भाई के साथ एक छोटे से घर में सोते थे।सुंदर का बचपन मद्रास के अशोक नगर में बीता।आर्थिक तंगी के कारन सुंदर पिचाई 1995 में स्टैनफोर्ड में बतौर पेइंग गेस्ट रहते थे। आप को बता दूँ की सुन्दर पिचाई पैसे बचाने के लिए पुरानी चीजों को इस्तेमाल करते ताकि उनका पढाई पूरा हो सके। सुन्दर पिचाई पीएचडी करना चाहते थे लेकिन प्रस्तिथियों के आगे किसका चला है वह बतौर प्रोडक्ट मैनेजर अप्लायड मटीरियल्स में नौकरी किये। एक प्रसिद्ध Mckinsey & Company में बतौर कंसल्टेंट काम किया उसके बाद भी उनको पहचान नहीं मिली।
 

Sundar Pichai Google's CEO: Sundar Pichai Biography In Hindi


सुन्दर पिचाई आज Google के CEO है जिनकी 2019 में salary $650,000 ज्ञात हुआ जिसका अगर हम इंडियन रूपये में देखे तो 650,000 USD to INR = 47,940,942.66 Indian Rupees होता है कितना ज्यादा Amount है एक इंडियन मध्यवर्ग परिवार के लिए। We Must Have Proud To Be An Indian.


प्रारंभिक जीवन ( Early Life )

सुन्दरराजन पिचाई उर्फ़ सुन्दर पिचाई का जन्म 12 जुलाई 1972 को तमिलनाडु के एक छोटे से गाओ में हुआ था उनके पिता जी का नाम रघुनाथ पिचाई और माता श्री का नाम लक्ष्मी है। सुन्दर के पिता रघुनाथ पिचाई ब्रिटिश कंपनी General Electric Company में वरिष्ठ इलेक्ट्रिकल इंजिनियर थे और कंपनी के इलेक्ट्रिकल पुर्जे बनाने वाली व्यवस्ता देखते थे। आप कह सकते है की सुन्दर पिचाई अपने ही पिता जी को प्रेरणास्रोत मानते थे। तभी तो उनको Electonics से काफ़ी लगाव था। 

12 साल के उम्र उनके पिता जी ने लैंडलाइन जैसी कोई इलेक्ट्रॉनिक Device लाये थे कहा जाता है की सुन्दर पिचाई इस लैंडलाइन डिवाइस से ज्यादातर समय बिताते थे। आप को जान कर हैरानी होगी की सुन्दर पिचाई को वो सभी नंबर याद रह जाता था जो वो अपने हाथ से एक बार उसमे डालते थे। और आज भी बहुत से नंबर उनको याद है। चूकी, यही नहीं इसके अलवा भी नंबर से सम्बंधित सभी बाते उनको याद रहती थी। उनको क्रिकेट में भी Interest था लेकिन वक्त कहा एक सा रहता है आज वो कहा है हम सब भली-भांति परिचित है। सुन्दर पिचाई ने अशोक नगर स्थित जवाहर विद्यालय से कक्षा 10 तक की पढ़ाई की और फिर चेन्नई में वना वाणी स्कूल से 12वीं की पढ़ाई की। 

इसके बाद सुन्दर ने IIT खरगपुर में दाखिला लिया और मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग से अपनी B.Tech में डिग्री हासिल की साथ ही उनको Silver Medal से भी सम्मानित किया गया और स्कॉलरशिप मिलते ही आई.आई.टी. खड़गपुर में उनके प्राध्यापकों ने उन्हें स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय से पी.एच.डी करने की सलाह दी पर सुन्दर ने एम.एस और एम.बी.ए. किया। उन्होंने स्तान्फोर्ड विश्वविद्यालय से ‘मटेरियल साइंसेज एंड इंजीनियरिंग’ में मास्टर ऑफ़ साइंस किया और University of Pennsylvania के Wharton School से MBA ( 2002 ) की शिक्षा ग्रहण की।



कार्यकाल ( Career )

आप को बता दूँ की सुन्दर पिचाई अपनी Study Complete करने के बाद और Google में बतौर CEO के अहोदा से पहले Mckinsey & Company में मैनेजमेंट कंसल्टिंग में कार्यरत थे।और Applied Materials में इंजीनियरिंग और प्रोडक्ट मैनेजमेंट में भी कार्यरत थे। 

2004 में सुन्दर पिचाई पहली बार Google से जुड़े वह वहाँ पर एक छोटी सी Team के साथ Google Search ToolBar पर काम करते थे। 

sundar-pichai-biography-photo-in-hindi
GoogleCEO 



गूगल कार्यकाल ( Google Career ) 

सुन्दर पिचाई 1 अप्रैल 2004 में उत्पाद प्रबंधन और विकास (  प्रोडक्ट और  इनोवेशन ऑफिसर थे ) के प्रमुख के रूप में Google में Join हुए। सुंदर पिचाई सीनियर वाइस प्रेसीडेंट (एंड्रॉइड, क्रोम और ऐप्स डिविजन) रह चुके हैं।उन्होंने शुरुआत में Google टूलबार पर काम किया,गूगल के सर्च टूलबार को बेहतर बनाकर दूसरे ब्रॉउजर के ट्रैफिक को गूगल पर लाना था , जिसने Microsoft इंटरनेट एक्सप्लोरर और मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स वेब ब्राउज़र का उपयोग करने वालों को आसानी से Google खोज इंजन तक पहुंचने में सक्षम किया। इसी दौरान उन्होंने सुझाव दिया कि गूगल को अपना ब्राउजर लांच करना चाहिए। 

उन्होंने Google Chrome और Google Drive जैसे उत्पादों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सुन्दर पिचाई ने, आज इस्तेमाल किये जाने GoogleMap और Gmail App जैसे Products में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और सुंदर पिचाई ने ही गूगल वीडियो कोडेक बनाए हैं। सुंदर द्वारा बनाए गए क्रोम ओएस और एंड्रॉइड एप ने उन्हें गूगल के शीर्ष पर पहुंचा दिया। पिचाई की वजह से ही गूगल ने सैमसंग को साझेदार बनाया। इसी सब उपलबिध्यों के कारन 2011 में बने CEO लैरी पेज ने, तुरंत सुन्दर पिचाई को प्रमोट करते हुए सीनियर वाइस प्रेसीडेंट बना दिया गया। 

कहा जाता है की जब सुन्दर पिचाई Google Toolbar पर काम कर रहे थे तभी उनको एक Idea आया की क्यों न Google ख़ुद का एक अपना Web Browser बनाये तो वे फिर Google के CEO उन्होंने बात की फिर क्या था CEO ने पिचाई के बात को नकार दिया लेकिन उन्होंने हार नही मानी और बाकी  के Member के  साथ मिलकर 2008 में खुद का Internet Web Browser को दुनिया के सामने लाये जिसका नाम Chrome था। 19 नवम्बर 2009 में सुन्दर पिचाई ने Chrome O.S का भी प्रदर्शन किया और फिर उसके बाद वे आगे बढ़ते चले गए। उन्होंने क्रोमबुक को सन 2011 में जांच व् परिक्षण के लिए उतारा। जांच और परिक्षण के बाद सन 2012 में इसे ग्राहकों के लिए उतारा गया।2012 तक वह एक वरिष्ठ उपाध्यक्ष थे, और दो साल बाद उन्हें Google और Android स्मार्टफोन ऑपरेटिंग सिस्टम पर उत्पाद प्रमुख बनाया गया।

आप को बता दूँ की 2013 की शुरुआती सालो में एंड्राइड भी सुन्दर पिचाई के अंतर्गत आने वाले उत्पादों में शामिल हो गया। चुकी इससे पहले एंड्राइड का कार्य और विकास एंडी रुबिन के Under में हो रहा था। माइक्रोसॉफ्ट और Twitter के अगले सी.इ.ओ. (मुख कार्यकारी अधिकारी) के तौर पर भी सुन्दर पिचाई का नाम ख़बरों में बना रहा।लेकिन Google के साथ बने रहने के लिए उन्हें बड़े वित्तीय पैकेज दिए जा चुके थे। 

2008 से लेकर 2013 तक सुंदर पिचाई के संदर्भ में क्रोम ऑपरेटिंग सिस्टम की सफल Launching  हुई और उसके बाद एंड्रॉइड मार्केट प्लेस और इलेक्ट्रॉनिक प्लेस से उनका नाम दुनियाभर में  प्रसिद्ध हो गया। 

आखिर में 10 अगस्त 2015 को सुन्दर पिचाई  Google के CEO बने। 

आप ने देखा की कहा पर आकर उनको वास्तव में सफलता मिली। आज भले ही वो Google के CEO है लेकिन फिर भी वे साधारण सा दीखते है। Simplicity Is The Best Jewelry For Human And Humanity.


व्यक्तिगत जीवन ( Personal Life ) 


उन्होंने अंजलि पिचाई से शादी की, जो विकी, कोटा, राजस्थान के एक केमिकल इंजीनियर हैं। वे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान खड़गपुर में सहपाठियों के रूप में मिले। दंपति के दो बच्चे हैं।


Conclusion 

जैसा की आप ने जाना सुन्दर पिचाई का जन्म भारत मद्रास ( चेन्नई ) के तमिलनाडु में 12 जुलाई 1972 को एक तमिल मध्यवर्ग परिवार में हुआ था। भारतीय मूल के अमेरिकी कंप्यूटर वैज्ञानिक और कार्यकारी जो Google के CEO है ।उनके पिता जी General Electric Company में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर थे और इसी कारन कही न कही उनको इलेक्ट्रिक चीजों से प्यार था। वे अपनी Schooling India से सम्पन की फिर IIT खरगपुर से बैचलर डिग्री के साथ ऊंच शिक्षा के लिए California चले गए। जंहा से उन्होंने MA और MBA किया उसके बाद उन्होंने Mckinsey और Applied जैसे कंपनी में भी काम किया। 1 अप्रैल 2004 को वे गूगल में आये और बाद में 10 अगस्त 2015 को सुन्दर पिचाई  Google के CEO बने। 



तो आप सब ने जाना की Google के CEO सुन्दर पिचाई का जीवन सफर आसान न था उन्होंने मेहनत किये और आज आप देख ही सकते है की वो 1000 करोड़ से भी ज्यादा कमाते है साल में।आप ने यह भी जाना की कितने मुसीबत आये फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी और कोशिश करते गए। दोस्तों आप भी अपने जीवन में एक लक्ष्य और सिद्धांत बनाइये और उस पर आगे बढ़ते रहिये। 

अगर आप सब को मेरे इस आर्टिकल से कुछ ज्ञान मिला या आप ने कुछ जाना तो Please इस आर्टिकल को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों में Share करे। और अगर आप कुछ पूछना चाहते है या आप कोई और टॉपिक से related आर्टिकल चाहते है तो भी Comment करे नहीं तो आप Facebook और Instagram पर भी Follow कर सकते है और पूछ सकते है। 

जय हिंद जय भारत ( हिंदुस्तानी है हम )

धन्यवाद !

Posted By Ainesh Kumar 

यह भी पढ़े:

Previous
Next Post »

मैं आप सबका शुक्रिया अदा करता हूँ की आप ने मेरे आर्टिकल को पढ़ा और इतना सारा प्यार दिया . अब अगर आप को कोई Confusion है, तो आप कमेन्ट में पूछ सकते है .धन्यवाद . ConversionConversion EmoticonEmoticon